100 thoughts on “Organic Farming in India by B-Tech Engineer Sunil Kumar +91-9467647961

  1. नमस्ते भाइयों! किसान को क़र्ज़ मुक्ति व् ज़मीन की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए जैविक खेती का ही सहारा लेना चाहिए. किसी भाई को अगर बढ़िया आर्गेनिक फ़र्टिलाइज़र खरीदना हो तो मुझसे ज़रूर संपर्क करें – 8277273768 राम राम

  2. Sir, I am Also Civil Engineer & Second thing I also start papaya farming with Organic – waste decomposer , Good keep it up .

  3. ज़ैविक ख़ेती करें और पाएँ 20% ज़्यादा पैदावार 9891682740
    https://youtu.be/uquLP_TROVM

  4. खेती organic matter वाली होना ही पूर्ण स्वदेशी नही होगा। इसकेलिए….1) प्राचीन भारतीय स्वादिस्ट गुण वाली किस्म हो , न की शंकर किस्में।
    2) भारतीय देसीगाय का ही गोबर & गौमूत्र हो।

  5. Namskar bhai saab ji m bhi organic kheti krna chahta hu pr hmare pas nahri jamin nhi h barani jameen h pr pani thik thak hai or m organic kheti k sath hi goat farming or organic milk bhi start krna chahta hu to plz aap mera margdarshn kre …my cont.no. 8005520089 .plz meri sahayta krna

  6. bhai esa kaam hai jisse main apna pura jiwan krna chahta hu…..isme hi apna carrier banana chahta hu mera b yahi sapna hai.. ki Bharat me sb organic kheti kare.or desi gaay paale.. A2 milk k liye… muje smjh ni aa rha shuruaat kese karu Himachal se hu…

  7. Congratulations on your video and thanks brother please apna address batayen I visit to your field and I like you sir thanks again for your thinking about india

  8. राजीव भाई ने बताया है इसके बारे में जैविक खेती ।राजीव भाई जिन्दाबाद

  9. राजीव भाई का नाम भी ले लेते जिन्होंने यहां तक पहुँचाया आपको ।आप सब ज्ञान राजीव भाई वाला बता रहे हो

  10. Sharma je,, Hume bhi organized farming mei interest hai,, mene 2007mei 20hecteyer land le thi,, nagar kuch Nahi Mila, labour charge bhi Nahi Mila,, 2015mei sellout ker diya,,
    ab fir man bana hai,, lekin totally commercial,,,

  11. Aap Hume guide ker sakte ho,, Meri echcha hai ki reliance fresh ki Tarah hum uske shop open kere,,
    kahne ka Matlab hai, total commercial,,
    Kya Aap Eska detail project with all respect,, bana sakte hai,

  12. spiritual farming methods.

    https://draft.blogger.com/blogger.g?blogID=828895291260450083#editor/target=post;postID=4321310371237370113;onPublishedMenu=allposts;onClosedMenu=allposts;postNum=0;src=postname

  13. बहुत-बहुत बधाई आपको इंजीनियर साहब। आपके
    निर्णय से वे सभी लोग प्रेरणा ले सकते हैं जो आधुनिकता की आड़ में कृषि व पशुपालन से
    विमुख होते जा रहे हैं। एक निवेदन है कि कृषि
    के साथ गौपालन को भी बढावा दिया जाए ।
    मैं पश्चिमी राजस्थान से हूं ,आपका ध्यान एक अत्यंत महत्वपूर्ण समस्या की तरफ आकर्षित कराना चाहता हूं ,यहाँ पर पिछले दस
    पंद्रह साल से एक बेहद हानिकारक पेड़ अंग्रेजी
    बबूल * तेजी से पांव पसार रहा है इसकी वजह से
    गौचर नष्ट हो रहे हैं । इसको पनपने के लिए पानी
    व खाद की भी आवश्यकता नहीं होती है।
    किसी षडयंत्र के तहत हरियाली के नाम पर इसके
    बीज देश के उन भूभागों में बिखेर दिए गए जहाँ
    कृषि नहीं होती थी परंतु यह भूभाग पशुपालन में
    गौचर हेतु सर्वथा उपयुक्त थे । यहीं पर हरियाली के बहाने से इसे उगाया गया ताकि स्थानीय लोग व सरकार
    इसे हरियाली समझकर विरोध न करे , फल स्वरूप बिना किसी प्रयासों से अनायास ही यह विष वृक्ष मारवाड़(राजस्थान) व कच्छ (गुजरात) जहाँ से यह
    सुनियोजित षडयंत्र के तहत सर्व प्रथम उगाया गया था
    तेजी से पूरे देश में फैलता जा रहा है । समय रहते
    इसका उन्मूलन यदि नहीं किया गया तो वह दिन दूर नहीं
    जब इसकी वजह से गौचर ही नहीं सारी प्राकृतिक
    विविधता नष्ट हो जाएगी । आप सक्षम हैं कृपया सरकार
    तक यह दर्द पहुँचाएं क्योकि बिना सरकारी मदद से
    यह संभव नहीं। उल्लेखनीय है कि यह कांटेदार झाड़ी है यह गाय ऊंट के मुंह में यदि दाढ में फंस जाए तो
    यह जान लेवा भी साबित हो सकता है । * Prosopis juliflora (अंग्रेजी बबूल )9783775359

  14. my name is hasan.i live in bangladesh . hajaro salam apko . apki tara har gao me ak ak admi payda ho to dunia badel jeya ga . thanks a lot

  15. મારા ગામ માં મેં આ પહેલ ચાલુ કરી છે
    જેંવિક ખેતી રસાયણ મુક્ત ખેતી
    મને સંતોષ છે કે મેં પેહલ કારી છે

  16. Sunil ji desh ke vikash manniye modi ji ke sapne ko sakar kar Rahe hai best of luck Bharat mata ki jay

  17. वैज्ञानिक साले चूतिये हैं । वैज्ञानिक को हैरानी हुई ये चूतिये किसानों को गाइड करते हैं लानत है

  18. आजकल की पूंजीवादी खेती में किसान वर्ष केवल एक या दो फसलें बीजता है और लगातार वर्षों तक वोही फसल बीजता है जैसे पंजाब हरियाणा में किसान गेहू और धान की फसल लगातार कई वर्षों से बीज रहा है | लगातार एक ही फसल बीजने के कारण धरती में फसल के लिए जरुरी तत्वों की कमी होने लगाती है जिसको पूरा करने के लिए किसान महंगे केमिकल जैसे यूरिया , आदि का प्रयोग करता है | लगातार यूरिया आदि डालने से धीरे धीरे धरती की उर्वरक क्षमता कम होने लगती है और लगातार यूरिया आदि में मात्रा भी बढ़ानी पड़ती है | जिस कारण किसान की लगात बढ़ जाती है | इसके विपरीत वैदिक मिश्रित खेती में किसान एक समय में अलग अलग फसलें बीजता है | जिस कारण किसान हर वर्ष उसी खेत में पिछले वर्ष से अलग फसल बोयेगा | इस कारण खेत में उर्वरक शक्ति बनी रहती है और किसान को महंगे केमिकल और हाइब्रिड बीज आदि का प्र्योग नहीं करना पड़ता जिस किसान का पैसा भी बचता है और खेत भी बचता है | खेती में कई फसले अक दुसरे की पूरक भी होती हैं वैदिक मिश्रित जैविक खेती में किसान ऐसी फसलें भी बीज सकता है | और अंत में हम जानने की कोशिश करते हैं कि किसान ने वैदिक मिश्रित खेती को छोड़ कार आजकल की पूंजीवादी खेती करना क्यों शुरू कर दिया | इसका सबसे बड़ा कारण है सरकार दुबारा दिया जाने वाला नुयुनतम समर्थन मूल्य (MSP) | नुयुनतम समर्थन मूल्य किसान को किसी एक ही फसल लगातार बीजने पर मजबूर करता है | जैसे पंजाब में केवल गेहूं और धान के MSP के कारण किसान को गेहूं और धान बोने पर मजबूर होना पड़ता है | और किसी फसल की सरकार दुबारा खरीद ना होने के कारण किसान लगातार बार बार बोही फसल बीजता है | किसान को समझना पड़ेगा की MSP सरकार किसानो को नहीं बल्कि पूंजीपति लोगो को देती है ताकि किसान मिश्रित खेती से दूर रहे और किसान को उर्वरक ,बीज , आदि बाजार से खरीदने पड़े | सरकार अगर किसानो का भला चाहती है तो वह सब फसलों का MSP तय करे और उनकी खरीद को यकीनी बनाये ताकि किसान मिश्रित खेती की और अग्र्सार हो सके किसान भाईओ कभी अपने सोचा है आपके पूर्वज जो की वैदिक मिश्रित जैविक खेती करते थे उन पर ना तो क़र्ज़ था , ना ही वे बीमार थे , ना ही उन्होंने कभी आत्म हत्या की ना ही उनको खेत छोड़कर शहरों और विदेशों में भागना पड़ा | आजकल के कि्सान को सस्ता क़र्ज़ भी मिलाता है , MSP भी मिलती है , उर्वरक पर अनुदान भी मिलाता है लेकिन फिर भी किसान अतम हत्या पर मजबूर और क़र्ज़ के बोझ तले दबा क्यों है | किसान भाईओ जब बैंक ट्रेक्टर आदि पर कम व्याज लेता है और सरकार SUBSIDY देती है तो वह किसान के लिए नहीं बल्कि ट्रेक्टर कम्पनीज के लिए होती है | जब सरकार यूरिया आदि पर सब्सिडी देती है तो वो किसानों के लिए नहीं वो यूरिया कम्पनीज के लिए है | सरकार कभी बैल खरीदने पर , जैविक खेती पर सब्सिडी क्यों नहीं देती | आप को इस बात को समझाना होगा | आपको वैदिक मिश्रित जैविक खेती की और लोटना होगा ,खेती की लागत कम करनी होगी , अपनी उपज सीधे उपभोगता तक पहचानी होगी और पूंजीवादी बिचोलियों को ख़तम करनी होगी |नहीं तो खेती छोड़कर शहर में मजदूरी करनी पड़ेगी | पूंजीवादी बिचोलियों को ख़तम करने के लिए सनातन वैदिक अर्थव्यवस्था फिर से पुर्नजीवित हो रही है | जिसका उलेख हम अपने आने वाले लेखों में करेगें | पूरा व्याख्यान सुनने के लिए हमारा चैनल सब्सक्राइब करें https://youtu.be/mcC_A-T1Z9M

  19. आप organic farming के बारे में बहुत कुछ जान सकते नीचे दिए गए लिंक पे क्लिक कीजिये। www.agripros.blogspot.com
    इस साइट पे organic farming की सभी महत्वपूर्ण जानकारी है।।।👍👍

  20. Bahat Badhiya Kam Kar Rahe hain Sir… Same to same Rajiv Dikhit ji jaiesa…. Mai Bhi Soch raha hun Job Chod ke Aapne Gaon jake Sabhi Kisan Bhaie ko Ye batt batake Organic Agriculture kam suru kar du….

  21. सुनील शर्मा की लगातार अपडेट के लिए कृपया इस चैनल पर जाएं।

    For more update of Sunil plz check

    https://www.youtube.com/user/sharmasunil1312

  22. Good job sar. Maine 1 car driver hun. Or maine bhe gao seva or Kevin khete karna chahata hun par mere paas pesa nahe hai

  23. सप्रे नहि बोला जाता ,मगर spre बोला जाता हे

  24. Bhai rajivdixit ki jai sunil Sharma appko kya sharam aa gayi bhai rajivdixit ka name lene me usse hi prerit hokr sab organic farming chalu kiya lakin bhai rajivdixit ka name nahi liya ye aapne galt kiya

  25. Hum yuva bhai rajivdixit ko nahi bhul skte kyoki ye desh dobara bhai rajivdixit ke vicharo pr chalkr hi dobara visv guru bn skta h pr es video me sunil ne bhai rajivdixit ka name nahi lakr thik nahi kiya kyoki ye sab bhai rajivdixit ka bataya hua gyan h

  26. Mai janta huian hoo aap khaien ya na khaien aapke mastak pe jiska hath hai mai unhe roj sunta hoon it is the rajiv dixit okkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkkk

  27. आपका बहुत बहुत धन्यवाद
    लेकिन ये कुछ अधूरी जानकारियां है, इसमें एक बार तैयार कल्चर को कितने दिन तक इस्तेमाल कर सकते है और कितने दिन बाद दोबारा खेत में डालना है और इससे भी मुख्य खर- पतवार तो बिना pesticides, के कैसे रूकेगा और अगर इसके बाद भी फसल में कीड़ा लगने लगे तो इसका का उपाय है
    Please sir इन जवाबों के साथ एक वीडियो बनायें.. 🙏🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *